Tel: 044 – 26211621, 044 – 26212421 | Fax: 044 – 26211621 | ccrschennai(at)gmail(dot)com

श्रीपद यसो नाइक

राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), आयुष मंत्रालय

पद्मश्री वैद्य राजेश कोटेचा

सचिव, आयुष मंत्रालय

श्री पी एन रंजीत कुमार

संयुक्त सचिव, आयुष मंत्रालय

महानिदेशक का संदेश

Prof. Dr. K. Kanakavalli

महानिदेशक

केंद्रीय सिद्ध अनुसंधान परिषद (सीसीआरएस) सिद्ध चिकित्सा प्रणाली से संबंधित शीर्ष निकाय है। सीसीआरएस क्लिनिकल रिसर्च, ड्रग रिसर्च, औषधीय पादप अनुसंधान, मौलिक शोध, साहित्यिक शोध और दस्तावेज़ीकरण के माध्यम से सिद्ध चिकित्सा प्रणाली के वैज्ञानिक सत्यापन की दिशा में काम कर रहा है।

सीसीआरएस अपनी शोध गतिविधियां और स्वास्थ्य सुरक्षा सेवाएं मुख्य रूप से अपने परिधीय 7 संस्थानों / इकाइयों जो तमिलनाडु में – 3, पुदुच्चेरी, केरल, कर्नाटक और नई दिल्ली में एक एक स्थित है, के माध्यम से पूरा कर रहा है। सीसीआरएस वर्तमान में आयुष मंत्रालय द्वारा वित्त पोषित 33 इंट्रा-म्यूरल अनुसंधान (आईएमआर) परियोजनाओं का कार्य कर रहा है।

सीसीआरएस में 1000 से अधिक ताड़ पात्र की पांडुलिपियां हैं और परिषद् औषध योगों और अन्य सामग्रियों को डीकोड करने और किताबों के रूप में प्रकाशित करने में शामिल हैं। सीसीआरएस दुर्लभ सिद्ध साहित्य, ताड़ पात्र की पांडुलिपियों को भी प्रकाशित कर रहा है और अब तक 50 किताबें प्रकाशित की गई हैं। अनुसंधान परिणामों को पेटेंट और प्रमुख पुनरीक्षा पत्रिकाओं में प्रकाशन के माध्यम से बौद्धिक संपदा अधिकारों में परिवर्तित कर दिया जाता है।

घोषणाएँ

नवम्बर 8, 2018

AYUSH-NET, 2018
AYUSH Ph.D. Fellowship Scheme (2018)
Updated List of candidates (only after fees paid) registered for AYUSH-NET, 2018″ as on 31.10.2018

Click to Download

नवम्बर 8, 2018
सिद्ध चिकित्सा प्रणाली के विकास के लिए भारत सरकार ने सीसीआरएएस से सी सी आर एस (केंद्रीय सिद्ध अनुसंधान परिषद) को अलग किया जिसका मुख्यालय चेन्नई में है | पांच राज्यों में अर्थात तमिलनाडु (चेन्नई, मेट्टूर एवं पालयमकोट्टै), पुदुच्चेरी (पुदुच्चेरी), नई दिल्ली, कर्नाटक (बेंगलुरु) और केरल (तिरुवनंतपुरम)  छे अनुसंधान संस्थान / एकक कार्यरत हैं | सिद्ध चिकित्सा मानव स्वास्थय के देखभाल के लिए औषध और आहार दोनों पर जोर देने वाला  समग्र स्वास्थ्य  विज्ञान है
 
केंद्रीय सिद्ध अनुसन्धान परिषद्
परिषद् का दृष्टिकोण है विभिन्न व्याधिनिदान विज्ञान की बिमारियों को रोकने,  प्रबंधित करने, ठीक करने के लिए बेहतर प्रीक्लीनिकल और नैदानिक अनुसंधान सुविधाओं के माध्यम से गुणवत्ता, सुरक्षा और प्रभावकारिता के साथ औषधियों को विकसित करने हेतु अनुसंधान की गुणवत्ता को बढाना और ज्ञान का संरक्षण और हस्तांतरण करना

डाउनलोड

Yoga in Siddha
Download
Research in Siddha System of Medicine
Download
Management of Dengue Fever
Download
Management of Chikungunya
Download